Skip to main content

Posts

🎄Ashoka the Medicinal Plant🎄

🎄ASHOKA 🎄
BOTANICAL NAME :-- Saraca indica Linn.

Famous Name :-- Hempushpa, Tamra pallav.

Available place :-- Entire India.

Hight of tree:-- The hight of  Ashok  is generally  25 to 30 feets with leafy branches.A sadabahari  plant is called as Ashok.Analytically we may say  to this plant in  Hindi अ+शोक without sorrow. In Ramcharitmanas an epic composed by Goswami Tulsi Das used Ashok Vatika,where Sita mata stayed  in.This plant is made for  woman.      Its every      part.   s  useful  to women  internally and  externally.Other Categories :-- This plant is seen  in.thegardens  for beauty. Such plants as SitaAshok,Pendular Ashok etc are found in all over  India.
Plantation Method:-- In.   the.   month.    of------------------------------  September the seed would be dropped into hot water. Thereafter these wouldbe sown in depth of
 2 to 3 inches the trilling will be provable 30
to   40 days by the seeds. Meanwhile.  water
would be provided timely.

Affordable Part :-- Before…
Recent posts

🌷AN IND,IAN FESTIVAL🌷

🌷नॉकरी के लिए:--  नौकरी के लिए दीपावली की रात्रि में सवा मीटर पीले वस्त्र मैं हल्दी की तीन गाँठें,एक केसर की डिब्बी, 300 ग्राम बेसन के लड्डू, पीपल और वटवृक्ष के जयकारे पत्ते, 300 ग्राम चना दाल तथा कुछ दक्षिणा रखकर उसे पोटली का रूप दे दे। *सुरेश रात्रि में दीपावली का पूजन करें ।मध्य रात्रि में पोटली को हाथ में लेकर किसी ऐसे स्थान पर जाएं ,जहां से खुला आसमान दिखाई दे ,अब पोटली को आसमान की ओर उठाकर प्रभु से शीघ्र रोजगार दिलाने अथवा अपने व्यवसाय को अधिक लाभदायक बनाने का निवेदन करें। तत्पश्चात पोटली को अपने मुख्य द्वार के अंदर की ओर रखते हैं। अगले दिन वह पोटली किसी वृद्ध कर्मकांडी को दान कर दें ।ऐसा लगातार 11 गुरुवार करें अर्थात एक बार दीपावली को फिर लगातार 11 गुरुवार को इस उपाय से आपको तुरंत लाभ दिखाई देगा और नौकरी प्राप्त होने में बहुत बड़ी सहायता मिल जाएगी।
        एक सरल उपाय यह भी है कि आप दीपावली पूजन के लिए गणेश जी की एक ऐसी मूर्ति अथवा तस्वीर लाएं जिनकी सो जाएं और हो दीपावली पूजन के बाद श्री गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ करें ।पाठ के बाद अपनी समस्या के समाधान का निवेदन करते हुए प्रणाम क…

🌱HOW TO EARN MONEY🌱

🏠आर्थिकसुदृढता:--आर्थिक सुदृढ़ता लाना सर्वोपरि होरहा है।संसार के सभी व्यक्तियों को सुखी जीवन के लिए धन की महती आवश्यकता है ।लेकिन कई बार ऐसी परिस्थितियां पैदा हो जाती है कि व्यक्ति को धन के लिए बहुत परेशान होना पड़ता है ।ऐसी स्थिति मे आप इस अध्याय मे दिए जा रहे उपायों द्वारा आर्थिक संकट दूर करके सुखमय जीवन बिता सकते है ।इन उपायो से आप धन संचय भी करसकते हैं।
    🏠यदि किसी प्रतिष्ठान याघर में आर्थिक संकट के कारण क्लेश रहते      है, तो   आप   सोमवार    को   तुलसी   के    11    पत्ते
तोड़ते समय मानसिक रूप से ऊॅ नमो भगवते वासुदेवाय नमो नम:। मंत्र का जाप करते रहें ।  फिर  पत्तो  को  धूप में  सुखा  लें। अगले शनिवार  को   गेंहू  में तुलसी  के    पत्तो    के  साथ  नागकेसर  
 का एक  जोड़ा  ऑर  100  ग्राम काले  चने  डालकर   पिसवाएं।        फिर उस आटे को किसी  पेड के नीचे रख आएं।    वापिसी   में
   किसी गरीब को कुछ पैसे अवशय दें।   शीघ्र ही आर्थिक संकट दूर     हो जाएगा ।

   🏠श्रावण मास मे  108 विल्व पत्रों पर   चन्दन  से  ऊं नम: शिवाय          मंत्र लिखें।   फिर इसी   मंत्र को    बोलते    हुए   …

🐅अश्वगन्धा,औषधीय पौधा🐅 Ashwagandha, a Medicinal Plant🐅

🎋अश्वगन्धा :--- एक औषधीय वानस्पतिक पौधा              है। यह अत्यधिक शक्तिवर्धक होने के कारण इसका नामकरण अश्व के नाम से जोड़ा गया है ।सब मर्जों की एक दबा में प्रयुक्त होने वाला दबा  एवं पोषक तत्व है ।इसके सेवन से शरीर में समुचित ऊर्जा का संचार होता है ।और व्यक्ति स्वस्थ  और चुस्त-दुरुस्त बना रहता ।बृदध अवस्था मे भी वह अपने आप को कार्य करने मे सक्षम महसूस करता है ।     💈वानस्पतिक नाम :--विदेनिया सानमीफेरा, इसका Botanical Name है।
    💈प्रचलित नाम :-- इसे असगंध एवं बाराहरकर्णी, बाजिगंधा,बहमनेवर्री के नाम से भिन्न -भिन्न क्षेत्रों में पाया जाता है।
    💈प्राप्ति स्थान :-- भारत के पश्चिमोत्तर भाग तथा हिमालय में 5000 फीट की ऊंचाई तक पाया जाता है।
    💈पौधे की ऊंचाई :-- झाड़ी दार क्षुप लगभग दो से चार फीट ऊंचा बहु शाखा युक्त तथा सदाहरित,नदी-नालों एव॔ बडे-बडे वृक्षों के पास देखे जाते हैं।
    💈अन्य प्रजाति :--असगंध दो प्रकार के होते है   छोटी तथा बड़ी ।छोटी असगंध का क्षुप छोटा परन्तु मूल बड़ा होता है ।
    💈रोपण विधि:-- शरद ऋतु मे फूल आते है तथा कार्तिक के अंत मे पकता है ।वर्षा ऋतु मे इसक…

🐉How to make happy life🐉

🐉 सुखी जीवन :-- सुखी जीवन ही सफलताकीकुंजीहै।             इसीलिए प्रत्येक मनुष्य नौकरी या व्यवसाय करके अपना जीवन सुखी बनाने का प्रयत्न करता है ।इस अध्याय में ऐसे ही कुछ उपाय प्रस्तुत किए जा रहे हैं ।जिनके द्वारा आप सुखी जीवन प्राप्त कर सकते हैं ।

          🏆 यदि आप प्रत्येक शुक्रवार को किसी भी श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर में जाकर सुगंधित अगरबत्ती अर्पित करें तो मां लक्ष्मी का आशीर्वाद आप पर बना रहेगा यदि आपके शहर में श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर ना हो ,तो आप अगरबत्ती का काम किसी भी शक्ति मंदिर में कर सकते हैं ।घर में सुख समृद्धि का आगमन होने लगेगा ।

           🏆किसी भी रविवार को सूर्योदय से सूर्यास्त के मध्य एकगोले के मुंह को चाकू से इतना काटे कि उसमें एक उंगली जा सके ,फिर परिवार के सभी सदस्य मिलकर उस गोले में शक्कर तथा कोई भी पांच मेवे पीसकर छिद्र में भर दें ।जब तक गोले में उस मिश्रण का भरने की प्रक्रिया चलती रहे तब तक सभी लोग सुख समृद्धि की कामना करते रहे जब गोला भर जाए तो परिवार का मुखिया उसे बरगद के नीचे इस प्रकार गाड़ दें ,कि खुला भाग धरती के ऊपर निकला रहे ।गोलागाड़ने  की ऐसी ज…

🍟आर्थिक विकास की समस्या का हल🍟

🍟समस्या विकास का आधार:-- जब-जब मनुष्य के जीवन मे समस्या का आर्विभाव होता है, तब-तब मनुष्य अपना विकास करता है । छोटे -छोटे  उपाय सफलता के बड़े आयाम बन जाते हैं। तो ऐसे कुछ उपाय हमारे शास्त्रों में सुझाए गए हैं।उनका उल्लेख करते हुए आपको लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है ।    🍟यदि गूलर की जड़ को कपड़े मे लपेटकर चांदी की ताबीज में रखकर गले मे धारण किया जाय तो निश्चित रूप से आर्थिक संकट से मुक्ति मिल जाएगी ।और आप पर अधिक जिम्मेदारी है परन्तु आर्थिक समस्या के कारण आप उन्हे पूर्ण नही कर पा रहे है, तो प्रथम शुक्रवार को लाल कमल का पुष्प ले आयें ।फिर उस पर रोली से तिलक लगाकर लाल कपड़े के ऊपर रखकर धूप अगरबत्ती दिखाएं ।फिर उसी कपड़े में लपेटकर धन स्थान पर रख दें।यह उपाय गुप्त रूप से करना चाहिए ।


      🍟प्रथम शुक्रवार को अपने पूजा स्थान में गोबर से लीपकर अषटदल बनाएं ।फिर सवा मीटर लाल रेशमी वस्त्र लेकर उसके चारो कोनों में एक -एक गुलाब बांध दें ।अब उसको बाजोट पर बिछाकर मांलक्षमी की तस्वीर को स्थान दें ।साथ ही अभिमंत्रित श्री यंत्र को भी स्थान दें ।यंत्र पर तिलक -बिन्दी करके धूप -दीप और कचनार के…

🏠घरेलू उपचार🏠

🍏 रोग निदान :---आज के अंक में अत्यंत महत्वपूर्ण बात यह है कि व्यक्ति प्रारंभिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार घर बैठे वहुतसे रोगों का इलाज कर सकता है ।और बहुत बड़ी मुसीबत को चैलेंज करके टाल सकता है ।इस तरह के उपाय आपको लाभ के अलावा कोई हानि नही होगी ।परिवार मे रोगों का आना जाना लगा रहता है ।इससे जहां धन व्यय होता है वहीं दूसरी तरफ साइड इफेक्ट एवं इन्फेक्शन का खतरा बना रहता है ।ऐसे मे आप इस अध्याय मे दिए जा रहे उपायो द्वारा स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर के अपना धन बचा सकते है ।    ⛪यदि आप किसी रोग का निदान करना चाहते है अथवा किसी रोग से गंभीर रूप से रोगग्रस्त है ।तो आप किसी भी चिकित्सा पद्धति से रोग का निदान करने के लिए तैयार रहते है।अन्य लोग भीपरामर्श देने के लिए ततपर रहते हैं।यूँ तो संसार के प्रत्येक प्राणी को niसुख-दुख के इस भवसागर से गुजरना पड़ता है ।सुख के क्षणो की  दीर्घ
अवधि होते हुए भी क्षणिक  प्रतीत होती है ।और इसके विपरीत दुख के क्षण अत्यल्प होने के बावजूद भी बहुत कसकते हैं ।इसलिए जीवन को सुखद एवंऊर्जावान बनाने के लिए कुछ उपाय अवश्य करने चाहिए ।ताकि सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता रहे …