Skip to main content

🎄Ashoka the Medicinal Plant🎄

                 🎄ASHOKA 🎄


BOTANICAL NAME :-- Saraca indica Linn.

Famous Name :-- Hempushpa, Tamra pallav.

Available place :-- Entire India.

Hight of tree:-- The hight of  Ashok  is generally  25 to 30 feets with leafy branches

.A sadabahari  plant is called as Ashok.Analytically we may say  to this plant in  Hindi अ+शोक without sorrow. In Ramcharitmanas an epic composed by Goswami Tulsi Das used Ashok Vatika,where Sita mata stayed  in.This plant is made for  woman.      Its every      part.   s  useful  to women  internally and  externally.

Other Categories :-- This plant is seen  in.thegardens  for beauty. Such plants as SitaAshok,Pendular Ashok etc are found in all over  India.

Plantation Method:-- In.   the.   month.    of

------------------------------  September the seed would be dropped into hot water. Thereafter these wouldbe sown in depth of
 2 to 3 inches the trilling will be provable 30
to   40 days by the seeds. Meanwhile.  water
would be provided timely.

Affordable Part :-- Before the winter's  seas-

--------------------------on the chhal,flower   and
buds expected to collect  in dry vessel.

Method of use :-- The powder.   of dry  part

-----------------------  and fresh chhal  may  be
forever .All disease of women  may   be  
treated by proper use of. Ashok.-----as the disease  of menstrual  problem, lychorea,
cold infection, vaginitis disease, monthly
irregularities, berin,B P  etc are being con-
trolled by its proper use or by directed by
medcal praticener.

                                  Created by B L JHA

                               . . .     .Advocate
                                          .   High court
  

Comments

  1. A tree of Ashoka is very beneficial to female sex as ailment of men steel problem etc.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

🐦समाज में नारी की भूमिका 🐦

🐦विवाहित नारी :--नारी समाज की धुरी है यदि यह अस्त
                  व्यस्त है तो समाज का का कोई औचित्य ही नही है ।बिना इसके मनुष्य अधूरा है तो समाज भी अधूरा के साथ साथ अस्तित्वहीन है ।जब जब नारी की उपेक्षा की गई है तब -तब अवसाद उत्पन्न हुआ है ।भारत मेंनारी की पूजा व सम्मान होता आया है इसलिए कहा गया है -यत्र नारी पूजयते,तत्र देवता रमयते।इसी संदर्भ मेंइस अध्याय में नारी की जीवन चर्या से सम्बंधित कुछ गुण-दोष वर्णन किया गया है कि-
    🐦नारी के कर्तव्य :-विवाहित नारी के लिए पतिव्रत धर्म के समान कुछ भी नही है इसलिए मनसा बाचा कर्मणा पति के सेवापरायण होना चाहिए ।नारी के लिए पतिपरायणता ही मुख्य धर्म है ।इसके अलावा सब धर्म गौण है ।महर्षि मनु ने साफ लिखा है कि स्त्री के लिए पति की आज्ञा के बिना यज्ञ तप, व्रत, उपवास आदि कुछ भी न करने चाहिए ।स्त्री केवल पति की सेवा सुश्रूषा से उत्तम गति पाती है तथा स्वर्ग लोक मे देवता गण भी उसकी महिमा का बखान करते हुए उसकी प्रशंसा करते हैं।जो स्त्री पति की आज्ञा के बिना यज्ञ, तप, व्रत, उपवास आदि करती है, वे अपने पति की आयु का क्षरण करती है तथा स्वयं नर्क  में ज…

पुरुषों का महिलाओं के व्यवहार कैसा हो?

पुरूष एवं स्त्री:-जहां महिलाओं यानि
माता बहिनों में अवगुण देखने को मिलते हैं ।वहीँ पुरुषों का  पर्यवेक्षण
करने पर पता चला कि पुरुषों में महिलाओं के अपेक्षा अधिक दोष नज़र आये। चूँकिइस अध्याय में हमकेवल
स्त्रियों के विषय मे चर्चा करेंगें।
      🌺   अपेक्षा कृत देखा जाए तो सभी स्त्रियां पुरुषों के साथ मैं सेवावाद व्यवहार करती हैं । पर बदले में पुरुषों के साथ वैसा नहीं करते कोई कोई तो बात बात में अपनी स्त्रियों का अपमान करते हैं उनको गालियां देते हैं और मारपीट तक भी करने लग जाते हैं, यह मनुष्यता की बाहर की बात है ।उन भाइयों से हमारा नम्र निवेदन है कि स्त्रियों के साथ अमानवीय व्यवहार कदापि न करें।  इस प्रकार के व्यवहार से इस लोक में अपकीर्ति और परलोक में दुर्गति होती है ।कोई -कोई भाई लोभ के वशीभूत होकर अपनी कन्या को अंगविहीन, मूर्ख ,अति बृद्ध,चरित्रहीन अपात्रों, को कन्या सौंप देते हैं ।  वह देने और लेने वाले दोनों कन्या के जीवन को नष्ट करते हैं । और स्वयं नरक के भागी होते हैं अतः ऐसे पापों से मनुष्य को अवश्य बच कर रहना चाहिए।

   🌺  स्त्रियों के साथ सत्कार पूर्वक अच्छा व्यवहार करना चाहिए। स्त्…

🍦समाज में नारी की भूमिका 🍦 (भाग -दो )

🍦नारी का स्वरूप :-- नारी जगत जननी होते हुए जल
                             स्वरूपा है अर्थात जैसा माहौल वैसा इसका स्वरूप होजाता है ।यह अत्यंत परिवर्तन शील प्राणी है ।जब शिशु रूप मे होती है तब माता-पिता, भाई-बहन की परछाई मात्र रहती है, ससुराल में पति, सास-ससुर और जेठ -जेठानी की छाया बनकर रहती है ।जिस प्रकार जल का अपना कोई रंग नहीं होता, जो रंग मिला दो  वही जल का रंग हो जाता है ।अर्थात नारी एक महानता की मिसाल होती है ।नारी पूज्यनीय होती है ।अपने लिए दुखोंकाभंडारऔरदूसरो के लिए सुख का खजाना होती है ।नारी का विधवा रूप किसी के हृदय को झंझोर सकता  है। इस अंक में नारी के वैधवय रूप
का वर्णन करेंगे ।

    🍦वह घड़ी नारी के जीवन की सबसे दुखद घड़ी होती है जब उसका शौहर उससे सदा के लिए अलग होता है ।अर्थात पति की मृत्यु के पश्चात वह अपने आप को निरीह समझने लगती है और उसे अपने पति का आचरण रहरह कर याद आता है ।ऐसे मे विधवा नारी को अपने पति के आचरण के अनुकूल कार्य करने चाहिए ।अर्थात जिस तरह पति की जीवित अवस्था में उसके मन के अनुकूल आचरण करती थी, उसी प्रकार उसके मरने पर भी करना चाहिए ।धर्म का ऐसा आचरण करने…