Skip to main content

🍟आर्थिक विकास की समस्या का हल🍟

     
🍟समस्या विकास का आधार:-- जब-जब मनुष्य के जीवन मे समस्या का आर्विभाव होता है, तब-तब मनुष्य अपना विकास करता है । छोटे -छोटे  उपाय सफलता के बड़े आयाम बन जाते हैं। तो ऐसे कुछ उपाय हमारे शास्त्रों में सुझाए गए हैं।उनका उल्लेख करते हुए आपको लाभ पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा है ।

   🍟यदि गूलर की जड़ को कपड़े मे लपेटकर चांदी की ताबीज में रखकर गले मे धारण किया जाय तो निश्चित रूप से आर्थिक संकट से मुक्ति मिल जाएगी ।और आप पर अधिक जिम्मेदारी है परन्तु आर्थिक समस्या के कारण आप उन्हे पूर्ण नही कर पा रहे है, तो प्रथम शुक्रवार को लाल कमल का पुष्प ले आयें ।फिर उस पर रोली से तिलक लगाकर लाल कपड़े के ऊपर रखकर धूप अगरबत्ती दिखाएं ।फिर उसी कपड़े में लपेटकर धन स्थान पर रख दें।यह उपाय गुप्त रूप से करना चाहिए ।


      🍟प्रथम शुक्रवार को अपने पूजा स्थान में गोबर से लीपकर अषटदल बनाएं ।फिर सवा मीटर लाल रेशमी वस्त्र लेकर उसके चारो कोनों में एक -एक गुलाब बांध दें ।अब उसको बाजोट पर बिछाकर मांलक्षमी की तस्वीर को स्थान दें ।साथ ही अभिमंत्रित श्री यंत्र को भी स्थान दें ।यंत्र पर तिलक -बिन्दी करके धूप -दीप और कचनार के 11 पते अर्पित करें । अब आप मां लक्ष्मी के किसी भी मंत्रका जाप करें ,परन्तु मंत्र जाप से पहले कमलगटटे के 108 बीज और 108 नागकेसर रख लें ।प्रत्येक मंत्र केबाद यंत्र पर एक नागकेसर और एक कमलगटटे का बीज अर्पित करे।इस प्रकार 108 बार मं।त्रजाप के बाद प्रणाम करकेउठ जाएं
    .     🍟 अगले दिन पुनः धूप दीप अर्पित कर के वही मंत्र जप करें और कमलगटटे के बीज तथा नागकेसर अर्पित करें।इस प्रकार लगातार नौ दिनो तक करे ।नौवें दिन मंत्र जप के बाद श्री सूक्त की ऋचा से आहुति दें ।आहुति के बाद मां लक्ष्मी की तस्वीर को पूजा स्थल मे स्थान दें ।फिर लाल वस्त्र मे श्री यंत्र तथा सारी सामग्री बांधकर एकपोटली का रूप दे ।इसे अपने धन के स्थान पर रख दें ।अगले दिन से 21 दिन तक इसे अगरबत्ती अवश्य दिखाएं ।कुछ दिनों बाद आप आर्थिक परिवर्तन महसूस करेंगे ।
         🍟आप अपने घर के भोजन मे से तीन रोटी क्रमश गाय, कुत्ता और कौवे के लिए निकालें,तो आप कभी भी आर्थिक समस्या महसूस नही करेंगे ।तथा जिस वृक्ष पर चमगादड़ रहते है शनिवार के दिन उस वृक्ष को निमंत्रण दे आएं ।अगले दिन सूर्योदय से पहले जाकर विधि विधान से एक डाल तोड़ लाएं ।उसमे से कुछ घर के धन स्थान पर और कुछ व्यवसाय के धन स्थान पर रख दे ।इससे आपको कभी भी धन की कमी नही रहेगी ।
          🍟यदि आप आर्थिक रूप से परेशान हैं तो रात्रि 3-4 बजे के मध्य उठकर अपने निवास के उस खुले स्थान मे आ जाएं, जहां से आसमान दिखाई देता हो ।फिर पश्चिम दिशा की ओर मुख करके अपने दोनो हाथ के पंजों कोइस प्रकार मिला लें जैसे आप कुछ मांग रहे हो ।फिर आकाश की ओर देखते हुए मां लक्ष्मी से अपनी सम्पन्नता की भीख मांगें ।मांगते समय आप इतने भाव-विहवल हो जाएं कि आंख से आंसू निकल आएं अर्थात आप मन से मां लक्ष्मी से निवेदन करें ।फिर दोनो हथेलियों को अपने मुख पर फेर लें ।कुछ ही दिनों में चमत्कार देखें ।
         🍟नित्य प्रातः काल भगवती लक्ष्मी को लाल पुष्प अर्पित कर के दूध से बनी मिठाई का भोग लगायें ।तथा सोते समय किसी सफेद कागज मेंथोड़ा सा कपूर रखें ।प्रातःकाल उसे घर से बाहर जला दें ।घर मे शान्ति के साथ आर्थिक सम्पन्नता भी आयेगी ।
          🍟विशेष :--उपरोक्त क्रियाओं को शांत मन व एकाग्र होकर करने मे विशेष लाभ के साथ अनुपम अनुभूति का एहसास होगा ।
           🍟कृपया "आर्थिक  विकास की समस्या का हल "  अंक अवश्य पढ़ें और समुचित विधि विधान से गतिमान रहें । कल्याण अवश्य होगा ।

                     
                                                     बी.एल. झा.
                                                                अधिवक्ता
                                                        उच्च न्यायालय इलाहाबाद।
                            

Comments

Popular posts from this blog

🐦समाज में नारी की भूमिका 🐦

🐦विवाहित नारी :--नारी समाज की धुरी है यदि यह अस्त
                  व्यस्त है तो समाज का का कोई औचित्य ही नही है ।बिना इसके मनुष्य अधूरा है तो समाज भी अधूरा के साथ साथ अस्तित्वहीन है ।जब जब नारी की उपेक्षा की गई है तब -तब अवसाद उत्पन्न हुआ है ।भारत मेंनारी की पूजा व सम्मान होता आया है इसलिए कहा गया है -यत्र नारी पूजयते,तत्र देवता रमयते।इसी संदर्भ मेंइस अध्याय में नारी की जीवन चर्या से सम्बंधित कुछ गुण-दोष वर्णन किया गया है कि-
    🐦नारी के कर्तव्य :-विवाहित नारी के लिए पतिव्रत धर्म के समान कुछ भी नही है इसलिए मनसा बाचा कर्मणा पति के सेवापरायण होना चाहिए ।नारी के लिए पतिपरायणता ही मुख्य धर्म है ।इसके अलावा सब धर्म गौण है ।महर्षि मनु ने साफ लिखा है कि स्त्री के लिए पति की आज्ञा के बिना यज्ञ तप, व्रत, उपवास आदि कुछ भी न करने चाहिए ।स्त्री केवल पति की सेवा सुश्रूषा से उत्तम गति पाती है तथा स्वर्ग लोक मे देवता गण भी उसकी महिमा का बखान करते हुए उसकी प्रशंसा करते हैं।जो स्त्री पति की आज्ञा के बिना यज्ञ, तप, व्रत, उपवास आदि करती है, वे अपने पति की आयु का क्षरण करती है तथा स्वयं नर्क  में ज…

पुरुषों का महिलाओं के व्यवहार कैसा हो?

पुरूष एवं स्त्री:-जहां महिलाओं यानि
माता बहिनों में अवगुण देखने को मिलते हैं ।वहीँ पुरुषों का  पर्यवेक्षण
करने पर पता चला कि पुरुषों में महिलाओं के अपेक्षा अधिक दोष नज़र आये। चूँकिइस अध्याय में हमकेवल
स्त्रियों के विषय मे चर्चा करेंगें।
      🌺   अपेक्षा कृत देखा जाए तो सभी स्त्रियां पुरुषों के साथ मैं सेवावाद व्यवहार करती हैं । पर बदले में पुरुषों के साथ वैसा नहीं करते कोई कोई तो बात बात में अपनी स्त्रियों का अपमान करते हैं उनको गालियां देते हैं और मारपीट तक भी करने लग जाते हैं, यह मनुष्यता की बाहर की बात है ।उन भाइयों से हमारा नम्र निवेदन है कि स्त्रियों के साथ अमानवीय व्यवहार कदापि न करें।  इस प्रकार के व्यवहार से इस लोक में अपकीर्ति और परलोक में दुर्गति होती है ।कोई -कोई भाई लोभ के वशीभूत होकर अपनी कन्या को अंगविहीन, मूर्ख ,अति बृद्ध,चरित्रहीन अपात्रों, को कन्या सौंप देते हैं ।  वह देने और लेने वाले दोनों कन्या के जीवन को नष्ट करते हैं । और स्वयं नरक के भागी होते हैं अतः ऐसे पापों से मनुष्य को अवश्य बच कर रहना चाहिए।

   🌺  स्त्रियों के साथ सत्कार पूर्वक अच्छा व्यवहार करना चाहिए। स्त्…

🍦समाज में नारी की भूमिका 🍦 (भाग -दो )

🍦नारी का स्वरूप :-- नारी जगत जननी होते हुए जल
                             स्वरूपा है अर्थात जैसा माहौल वैसा इसका स्वरूप होजाता है ।यह अत्यंत परिवर्तन शील प्राणी है ।जब शिशु रूप मे होती है तब माता-पिता, भाई-बहन की परछाई मात्र रहती है, ससुराल में पति, सास-ससुर और जेठ -जेठानी की छाया बनकर रहती है ।जिस प्रकार जल का अपना कोई रंग नहीं होता, जो रंग मिला दो  वही जल का रंग हो जाता है ।अर्थात नारी एक महानता की मिसाल होती है ।नारी पूज्यनीय होती है ।अपने लिए दुखोंकाभंडारऔरदूसरो के लिए सुख का खजाना होती है ।नारी का विधवा रूप किसी के हृदय को झंझोर सकता  है। इस अंक में नारी के वैधवय रूप
का वर्णन करेंगे ।

    🍦वह घड़ी नारी के जीवन की सबसे दुखद घड़ी होती है जब उसका शौहर उससे सदा के लिए अलग होता है ।अर्थात पति की मृत्यु के पश्चात वह अपने आप को निरीह समझने लगती है और उसे अपने पति का आचरण रहरह कर याद आता है ।ऐसे मे विधवा नारी को अपने पति के आचरण के अनुकूल कार्य करने चाहिए ।अर्थात जिस तरह पति की जीवित अवस्था में उसके मन के अनुकूल आचरण करती थी, उसी प्रकार उसके मरने पर भी करना चाहिए ।धर्म का ऐसा आचरण करने…